Saturday, 10 September 2016

उच्च रक्तचाप का नियंत्रण एवं उपचार

 वर्तमान भौतिकवादी युग में भागमभाग की जिंदगी से मनुष्य तनावग्रस्त तो रहता ही है साथ ही साथ उच्च रक्तचाप जैसी बीमारी से भी ग्रस्त होता जा रहा है जिसके कारण उसे रात में अच्छी नींद भी नहीं आ रही है तथा मानसिक तनाव,मानसिक रोग व दुर्बलता का शिकार भी होना पड़ रहा है। उच्च रक्तचाप के लक्षण तब प्रगट होते हैं जब नसों अथवा रक्तवाहिनी धमनियों में व्यवधान उत्पन्न होने लगता है और रक्तप्रवाह असामान्य हो जाता है। ऐसी स्थिति में हृदय को अधिक जोर लगाकर रक्त को शरीर के समस्त अंगों में प्रेषण के लिए पम्प करना पड़ता है। इसके परिणामस्वरूप रक्तवाहिनियां कठोर हो जाती है और उनमें स्थान स्थान पर अवरोध उत्पन्न हो जाता है। कोलेस्ट्रॉल के जमने के कारण खून गाढ़ा होने लगता है जिसके कारण रक्तनलिकाओं का मार्ग स्वतः अवरुद्ध हो।  इस अवरुद्ध मार्ग से रक्त संचारित करने के लिए हृदय पर अधिक दबाव पड़ता है। इसी स्थिति को हाइपरटेंशन अथवा उच्च रक्तचाप कहा जाता है। उच्च रक्तचाप के कारण ही ब्रेन हैमरेज ,ह्रदयाघात की स्थिति का सामना करना पड़ता है। 
उच्च रक्तचाप का अभिप्राय हृदय की धड़कन के साथ रक्त धमनियों में धकेलने पर उनकी दीवारों पर पड़ने वाले दबाव से है। यदि यह दबाव निरन्तर सामान्य स अधिक रहता है तो उसे उच्च रक्तचाप की संज्ञा दी जाती है। यद्यपि व्यक्ति के रक्तचाप की स्थिति एक जैसी नहीं रहती है बल्कि यह घटता बढ़ता रहता है। उदाहरण के लिए जब वह सोता है तो रक्तचाप निम्न स्तर पर आ जाता है और जब वह जाग्रत अवस्था में रहता है तब अपेक्षाकृत उसमें वृद्धि हो जाती है। रक्तचाप बढ़ने का कारण अधिक क्रियाशीलता,एक्साइटिड,तनाव,क्रोध आदि भी हो सकता है। यदि रक्तचाप हमेशा सामान्य से अधिक रहता है तो यह अवस्था स्वास्थ्य के लिए हानिकारक मानी जाती है। वैज्ञानिकों का मत है कि एस टी के जीन रक्तचाप को बढ़ाने में सहायक होती है क्योंकि यह जीं एक प्रोटीन का निर्माण करती है जो किडनी के माध्यम से रक्त में नमक को नियंत्रित करने की प्रक्रिया को प्रभावित करती है। रक्तचाप की वृद्धि तभी होती है जब खून में नमक की मात्रा बढ़ जाती है। तनाव भी उच्च रक्तचाप का प्रमुख कारक माना जाता है क्योंकि कोलेस्ट्रॉल  यह स्थिति उत्पन्न हो जाती है। कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का प्रमुख कारण अम्लप्रधान आहार एवं श्रमरहित जीवनशैली है। 
उच्च रक्तचाप के कारण :-
उच्च रक्तचाप का प्रमुख कारण आवश्यक मात्रा से अधिक भोजन करना ,अधिक वसा व चिकनाई वाले पदार्थों ,टेल हुए भोजन ,नमकीन पदार्थ,चाय व काफी का सेवन ,धूम्रपान,मद्यपान करना है। मधुमेह ,गठिया ,दमा ,या किडनी का विकार होना भी इसका कारण बन जाता है। मानसिक चिंता ,तनाव ,अशांत जीवन ,भागदौड़ की दिनचर्या ,पर्याप्त गहरी नींद न लेना ,लगातार लम्बे समय तक एलोपैथिक दवाईयां लेना आदि हैं। वंशानुगत ,मोटापा भी इसका कारण माना जाता है। वैज्ञानिकों का मत है कि इसका प्रधान कारण अस्त व्यस्त जीवन शैली व अपौष्टिक भोजन लेना है। प्राकृतिक ,सहज व सदा जीवन से दूर होकर मनुष्य बनावटी व अप्राकृतिक जीवन शैली अपनाने लगा है जिसके कारण दुःख,रोग व तनावपूर्ण जीवन का सामना उसे करना पद रहा है। शारीरिक श्रम के स्थान पर अधिक मानसिक श्रम करना ,विलासितापूर्ण जीवन के सभी उपकरणों का प्रयोग करना , सात्विक भोजन के स्थान पर फ्रिज का बासी भोजन ,फ़ास्ट फ्रूड का सेवन ,गरिष्ठ व तला भुना भोजन की प्राथमिकता आदि से कब्ज,कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना ,रक्तधमनियों में अवरोध उत्पन्न होना तथा रक्तवाहिनी नलिकाओं में अवरोध उत्पन्न होना ,जैसी समस्याओं का सामना उसे करना पड़ता है। 
स्वस्थ व्यक्ति के लिए सामान्यतः १३० /८० अथवा १२० /८० एम एम एच जी रक्तचाप होना चाहिए। उच्च रक्तचाप में यह स्तर १६० /१०० अथवा इससे भी अधिक २०० /१२० एम एम एच जी तक पहुँच जाता है। कभी कभी इससे भी ऊपर रक्तचाप पंच जाता है तभी यह जानलेवा बन जाता है। दिल के संकुचन की क्रिया को सिस्टोलिक तथा दिल के फैलने की क्रिया को डायस्टोलिक कहा जाता है प्रायः बच्चों का रक्तचाप ८० /५० ,युवकों का १२० /७० तथा वृद्धों का १४० /९० एम एम एच जी तक सामान्य माना जाता है। 
शरीर में उच्च रक्तचाप के प्रमुख कारण निम्न हैं :-
आयु :-पुरुषों में ४५ वर्ष तथा महिलाओं में ५५ वर्ष के बाद उच्च रक्तचाप की सम्भावना बढ़ जाती है। 
लिंग :-लिंग की दृष्टि से पुरुषों में महिलाओं की अपेक्षा उच्च रक्तचाप की सम्भावना अधिक होती है। 
वंशानुगत :-माता -पिता को यदि उच्च रक्तचाप है तो बच्चों में इसकी सम्भावना बढ़ जाती है। 
अन्य कारण :- मोटापा,तनावग्रस्त जीवन ,गरिष्ठ भोजन ,नमक तथा वसा का अधिक प्रयोग ,धूम्रपान,मदिरासेवन,कार्याधिक्य आदि। 
 उच्च रक्तचाप के लक्षण :-
उच्च रक्तचाप को निम्न चार अवस्थाओं में विभक्त करके इसकी  पहचान की जा सकती है। 
१- सामान्य अवस्था :-जब व्यक्ति का रक्तचाप १२० /८० एम् एम् एच जी होता है तो इसे सामान्य रक्तचाप कहा जाता है। 
२- पूर्व अवस्था :-यदि रक्तचाप का स्तर सिस्टोलिक १२० से ऊपर तथा १४० से कम और डायस्टोलिक ८० से अधिक तथा ९० एम् एम् एच जी से कम हो तो इसे उच्च रक्तचाप की पूर्व अवस्था कहते हैं। 
प्रथम अवस्था :-इस अवस्था में ररक्तचाप सिस्टोलिक १४० से १६० तथा डायस्टोलिक ९० से ९९एम् एम् एच जी  तक माना जाता है। 
 - द्वितीय अवस्था :-इस अवस्था के अंतर्गत उच्च रक्तचाप सिस्टोलिक १६० या इससे अधिक तथा डायस्टोलिक १००  एम् एम् एच जी या इससे अधिक पाया जाता है।
उच्च रक्तचाप का प्रभाव :-
उच्च रक्तचाप के कारण शरीर की रक्तधमनियां ,हृदय,गुर्दे तथा अन्य अवयवों पर अनेकानेक दुष्प्रभाव परिलक्षित होने लगते हैं जिनमें प्रमुख प्रभाव निम्न हैं :-
धमनियों पर पड़ने वाला प्रभाव :-उच्च रक्तचाप का धमनियों के अंदर की दीवारों पर अधिक दबाव पड़ता है जिससे उनसे छोटे छोटे आंसू अथवा माइक्रोस्पिक टियर्स  निकलने लगते हैं जो वहां के ऊतकों पर जख्म के निशान बना देते हैं जिससे शरीर की धमनियां क्षतिग्रस्त हो जाती हैओं। धमनियों के क्षतिग्रस्त होने से वहां पर वसा ,कोलेस्ट्रॉल तथा अन्य पदार्थ चिपकने लगते हैं जो क्रमशः धमनियों को सख्त,सङ्कर और मोटा बनाने की क्रिया को तेज कर देते हैं। क्षतिग्रस्त धमनियां शरीर के अन्य अवयवों को पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन तथा पोषक तत्व पहुँचाने  में असमर्थ हो जाती हैं जिससे शरीर के अवयव धीरे धीरे कमजोर पड़ने लगते हैं। क्षतिग्रस्त धमनियों की दीवारों पर वसा के अधिक जमने से रक्त के थक्के बनने की क्रिया शुरू हो जाती है। यही थक्के रक्त संचरण प्रणाली के माध्यम से किसी भी बारीक़ व सँकरे धमनी में फंसकर शरीर के किसी भी हिस्से में रक्त की सम्पूर्ति को रोक देते हैं जिससे शरीर के उस अंग से सम्बन्धित विकार शरीर में आने लगते हैं और यही थक्का शरीर के किसी एक धमनी में फंसने से अधरंग तह हृदय की किसी कोरोनरी धमनी में फंसने से हृदय रोग को जन्म दे देती है। 
उच्च रक्तचाप के प्रमुख लक्षणों में चक्कर आना,सोकर उठने पर थकावट महशूस होना ,शरीर में ऐँठापन महशूस होना ,सिर चकराना,चिड़चिड़ाहट होना ,कार्य में मन न लगना , पाचन शक्तियों का क्षीण हो जाना ,सीढियाँ चढ़ते समय अथवा श्रम करते समय साँस का फूलना ,श्रम करने की क्षमता में गिरावट ,घबराहट ,अनिद्रा,साइन में खिंचाव महशूस होना आदि हैं। 
उपचार :-
वैसे तो उच्च रक्तचाप को व्यक्ति अपनी दिनचर्या में आवश्यक परिवर्तन करके भी इसे तक कर सकता है। उच्च रक्तचाप के कारक तत्वों यथा अपनी आदत में सुधार लाकर धीरे धीरे  भी इसे नियंत्रित किया जा सकता है। ऐसी आदतों को दूर करने में निम्न बातों का ध्यान रखना आवश्यक है  १- भोजन में तेज मिर्च ,मसाले नमक तथा वसा की मात्रा को कम कर दें तथा मौसमी फल ,सब्जियां,सलाद व अंकुरित अनाज का प्रयोग बढ़ा दें। शुद्ध पानी पियें और पानी की मात्रा को भी क्रमशः बढ़ते रहें। 
२-अपने शारीरिक वजन पर अवस्थानुसार नियंत्रण रखें। 
३- धूम्रपान व मदिरा सेवन कदापि न करें। 
४-तनावमुक्त रहने का प्रयास करें। 
५- ताड़ासन,त्रिकोणासन,अर्धमत्स्येन्द्रासन उष्ट्रासन,भुजंगासन,शलभासन,धनुरासन,शशांकासन ,मकरासन ,शवासन सूर्यनमस्कार का निरन्तर अभ्यास करते रहें। 
६- प्राणायाम में गहरे लम्बे श्वास भरना ,अनुलोम विलोम ,चन्द्रभेदी ,उज्जायी तथा भ्रामरी प्राणायाम का नियमित अभ्यास करें। 
७- प्रतिदिन प्रातःकाल एवं सायं काल १० -१० मिनट का शवासन तथा ४५ मिनट की योगनिद्रा इसके नियंत्रण में विशेष सहायक होती है। 
ध्यान द्वारा उच्च रक्तचाप का उपचार :-
शरीरस्थ रक्त भ्रमण प्रणाली के माध्यम से हृदय शरीर  अंगों तक रक्त की सम्पूर्ति करने के लिए प्रत्येक धड़कन के साथ धमनियों में रक्त को आगे की ओर धकेलता है। रक्त नलिकाओं की आंतरिक दीवारों में अपनी लोच के कारण संकुचन व विस्तार की क्रिया निरन्तर होती रहती आई जो रक्त को धमनियों में आगे को ओर बढ़ाने में सहायक होती हैं। आयु बढ़ने के साथ साथ विपरीत दिनचर्या के कारण इन रक्त नलिकाओं में कड़ापन आ जाता है तथा इनकी दीवारें मोती हो जाने पर इनकी संकुचन व विस्तार की सकती का क्रमशः ह्रास होने लगता है जिससे धमनियों की दीवारो पर बहुत अधिक दबाव बन जाता है। यही उच्च रक्तचाप का मुख्य कारण है। उच्च रक्तचाप सामान्यतः अशांत,बेचैनी,तनावग्रस्त रहने के कारण होता है। अतः इस दुष्परिणाम को रोकने के लिए मन को शांत,आनंदपूर्ण,तनावरहित व प्रसन्न बनाने की आवश्यकता है। ध्यान इस क्रिया में विशेष सहायक माना जाता है क्योंकि यह अशांत ,बेचैन व तनाव की अवस्था को शांत व प्रसन्नतापूर्ण अवस्था में बदलने की प्रभावकारी तकनीक है। ध्यान की क्रिया से मांसपेशियों में तनाव ,मानसिक तनाव तथा भावनात्मक तनाव से सहज मुक्ति मिल जाती है। यदि उच्च रक्तचाप का रोगी प्रतिदिन ३०-४५ मिनट तक निरन्तर ध्यान करने की क्रिया सम्पादित करता है तो वह धीरे धीरे इस रोग से मुक्त हो सकता है। 
ऋषिओं एवं मुनियों द्वारा अनुभूत यह प्रणाली आनंद की अनुभूति जागृत करती है क्योंकि आंतरिक आनंद के समक्ष बाह्य आनन्द जिसे हम सुख कहते ऐन ,तुच्छ है। ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान शांतिकुंज हरिद्वार में ध्यान पर कई वैज्ञानिक परीक्षण किये गए हैं और इन परीक्षणों से यह निष्कर्ष निकल कि ध्यान की अवस्था में हमारे शरीर और मन में कई  क्रन्तिकारी परिवर्तन  होते हैं जैसे कि शरीर और मन का तनाव रहित हो जाना ,हृदय के  धड़कनों के बीच अंतराल का बढ़ जाना ,पाचन क्रिया में सुधर ,हृदयगति का कम हो जाना ,शरीर में आक्सीजन कम होना ,मष्तिष्क में अल्फ़ा तरंगों का बनना व रक्त नलिकाओं की आंतरिक दीवारों का लचीला हो जाना आदि। ध्यान के अंतर्गत जब हम ॐ की ध्वनि  के उच्चारण का निरन्तर अभ्यास करते हैं तो उससे हमारे मष्तिष्क में जो अल्फ़ा तरंगें बनती हैं वह हमें शांति व आनंद की अनुभूति करवाती हैं  जिससे हृदय की मांसपेशियां  शक्तिशाली होने लगती हैं और हृदय की कोरोनरी धमनी की रुकावट समाप्त हो जाती है। ध्यान के द्वारा हम शरीर की रक्त नलिकाओं को लचीला बनाकर उच्च रक्तचाप की सम्भावना को समाप्त कर सकते हैं। अतः ध्यान को अपनी दिनचर्या में सम्मिलित करके प्रतिदिन प्रातः एवं सायं ३० मिनट का समय इसके लिए देना पर्याप्त होगा। 

Friday, 9 September 2016

मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप

 वैसे तो मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप अलग अलग बीमारियाँ हैं किन्तु इन दोनों बीमारियों के कतिपय लक्षण व कारण आपस में मिलते जुलते हैं। मधुमेह पीड़ित व्यक्ति को उच्च रक्तचाप रोग की सम्भावना अधिक बढ़ जाती है इसीलिए इन दोनों का एक साथ वर्णन करने की आवश्यकता समझी गयी। उच्च रक्तचाप या हाइपरटेंशन की स्थिति तब बनती है जब किसी वयस्क व्यक्ति का सिस्टोलिक दबाव १४० मि० मी०  और डायस्टोलिक दबाव ८९ मि० मी०मरकरी से लगातार अधिक रहता है। उच्च रक्तचाप के कारण हृदय को अधिक शक्ति से धड़कना पड़ता है जिससे हृदय का आकार बढ़ जाता है। इस स्थित से  कभी कभी हृदय पक्षाघात ब्व्ही हो जाता है। उच्च रक्तचाप के दुष्प्रभाव आँखों,गुर्दों,मष्तिष्क आदि अंगों में परिलक्षित हो सकते हैं। मधुमेह और उच्च रक्तचाप दोनों ही रोगों की सम्भावना उम्र बढ़ने के साथ अधिक हो जाती है। दोनों रोगों के कारण लगभग एक ही हैं जैसे धूम्रपान,मदिरासेवन,तनाव,विलासितापूर्ण जीवन शैली ,मोटापा,अधिक वसायुक्त भोजन आदि। अधिकांशतः मधुमेह के रोगों में हाइपरटेंशन भी पाया जाता है। अतः दोनों रोगों के कारणों में एकरूपता के कारण इनमें अन्योनाश्रित सम्बन्ध माना जाता है। 
यदि किसी मधुमेह पीड़ित व्यक्ति को उच्च रक्तचाप भी है तो उसमें हृदय धमनी रोग,एंजाइना ,हार्टअटैक,हार्ट फेलियर,पक्षाघात,गैगरिन,किडनीरोग,अंधापन आदि की सम्भावना बढ़ जाती है। दोनों रोगों पर गहन शोध करने पर यह तथ्य ज्ञात हुआ कि मधुमेह के रोगी यदि उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं तो उनकी औसत आयु ३३ प्रतिशत कम हो जाती है। ऐसे व्यक्ति की मृत्यु कम आयु में हो जाती है तथा ७५ प्रतिशत रोगोयों में मौत का कारण कोरोनरी धमनी रोग होता है। वैज्ञानिकों  ने यह पाया है कि मधुमेह रोगियों में उच्च रक्तचाप होने की सम्भावना सामान्य व्यक्तियों से दो गुनी हो जाती है किन्तु महिलाओं में पुरुषों की अपेक्षा अधिक सम्भावना होती है। मधुमेह रोगियों में उच्च रक्तचाप के कारण केवल सिस्टोलिक ब्लडप्रेशर बढ़ सकता है और अन्य में डायबिटीज के कारण गुर्दे प्रभावित होने से रक्तचाप बढ़ जाता है। यदि कोई व्यक्ति पूर्व में उच्च रक्तचाप से पीड़ित है और बाद में उसे मधुमेह रोग भी हो जाता है तो रक्तचाप और अधिक बढ़ जाता है तथा उसे नियन्त्रित करने में कठिनाई भी होती है। मधमेह में रक्त में सुगर की मात्रा बढ़ जाती है। रक्त में इन्सुलिन की मात्रा बढ़ने पर रक्त में कोलेस्ट्रॉल तथा ट्राईगिल्सराइड की मात्रा भी बढ़ सकती है।
सावधानियां :--
डाइबिटीज तथा उच्च रक्तचाप का साथ उसी प्रकार का माना जाता है जैसे करेला वह भी नीम चढ़ा। दोनों के एकसाथ हो जाने पर हृदय धमनी रोग,किडनी के रोग, हृदय फेलियर ,पक्षाघात व आँख के रोग प्रभावी हो जाते हैं। अतः ऐसे रोगियों यह सलाह है कि वे शीघ्रातिशीघ्र इसका उपचार कराकर दवाएं लेना आरम्भ कर दें जिसे रक्तचाप तथा रक्त में शर्करा की मात्रा पर प्रभावी नियंत्रण किया जा सके। उपचार के साथ कतिपय परहेज विशेषकर खानपान व दिनचर्या में सुधार भी लाया जाना आवश्यक है।यदि उच्च रक्तचाप का कोई व्यक्ति प्रथम चरण में अर्थात सिस्टोलिक रक्तचाप १०४ से १५० मि ० मी० मरकरी के मध्य हैतथा डायस्टोलिक रक्तचाप ९० से ९९ मि ० मी ० मर्करी के मध्य है और मधुमेह से ग्रसित नहीं है तो उसका उपचार ६ से १२ महीने तक उचित परहेज,व्यायाम,योग,वजन कम करने के प्रयास तथा नमक की मात्रा कम करने से सम्भव हो सकती है किन्तु यदि इतने रक्तचाप पर व्यक्ति मधुमेह से भी ग्रसित है तो उसके उपर्युक्त परहेज के साथ रक्तचाप घटाने की औषधि भी लेना आवश्यक होगा। इन दोनों रोगों के उपचार में निरन्तर योगाभ्यास करना अधिक लाभदायक होगा। 
मधुमेह का नियन्त्रण नियमित व्यायाम एवं योगाभ्यास से अधिक सरल हो जाता है। विभिन्न शोध मधुमेह को नियंत्रण में रखने हेतु योगासन एवं व्यायाम की प्रधान भूमिका स्वीकार करते हैं क्योंकि नियमित व्यायाम न केवल सक्रियता बढ़ता है बल्कि टाइप -२ के रोगी को पूरी तरह मधुमेह के नियंत्रण में सहायक भी होता है। उचित ढंग से किया गया व्यायाम व योगासन रक्त में शुगर की मात्रा को नियंत्रित के देता है किन्तु व्यायाम एवं योगासन के पूर्व सम्बन्धित विशेषज्ञों से परामर्श अवश्य कर लेना चाहिए। मधुमेह के मरीज की आयु व सुगर की स्थिति के अलावा दिल की सेहत भी मायने रखती है। इसी आधार पर प्रत्येक को उसकी स्थिति एवम आवश्यकता के अनुरूप व्यायाम व योगासन करने की सलाह आवश्यक है।
व्यायाम व योगासन से मिलने वाले लाभ निम्नवत हैं :--
१-दिल से सम्बन्धित बीमारियों व हार्टस्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है। 
२- नियमित अभ्यास से रात्रि में अच्छी नींद आती है जिससे तनाव नियंत्रण में सहायता मिलती है। 
३- हानिकारक कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप दोनों नियंत्रित हो जाता है जिससे दैनिक कार्यों हेतु पर्याप्त ऊर्जा मिल जाती है। 
४-डायबिटीज के रोगोयों के लिए अपना वजन नियंत्रण करना आवश्यक है और यह नियमित व्यायाम व योगाभ्यास से ही सम्भव है। 
५-रक्त में शर्करा के बढ़े हुए स्तर से शरीर का रक्त संचार प्रभावित होता है। नियमित व्यायाम व योगासन से शरीर में रक्त संचार बेहतर हो जाता है और रक्त सम्पूर्ण शरीर में निर्बाध रूप से पहुंचने लगता है। 
   मधुमेह के रोगी के लिए प्रातःकाल टहलना भी विशेष लाभदायक माना जाता है। प्रतिदिन ४०-५० मिनट तक टहलना पर्याप्त होगा। अधिक देर तक कुर्सी पर बैठने का बाद थोड़ा थल लेना भी लाभदायक होगा। मांसपेशियों को मजबूत बनाये रखने हेतु वेट ट्रेनिंग टाइप -२ के मरीजों के लिए अधिक लाभदायक माना जाता है। नियमित योगासन करने से वसा निरन्तर कम हो जाती है और इन्सुलिन नियंत्रण में रहता है तथा तंत्रिकातंत्र बेहतर तरीके से अपने कार्य करने लगते हैं। योगासन में निरन्तरता बहुत आवश्यक मानी जाती है। नियमित रूप से एक दो घण्टे साईकिल चलना भी दिल को मजबूत करता है और फेफड़े बेहतर ढंग से अपना कार्य करने लगते हैं क्योंकि साईकिल चलाने पर शरीर के विभिन्न भागों में रक्त संचार बेहतर हो जाता है तथा वजन नियंत्रण में भी यह सहायक होता है। जिन मधुमेह रोगियों के पेट में रक्त संचार की कमी की समस्या हो उन्हें तैराकी भी लाभदायक होगा क्योंकि इसमें पैरों के संचालन में अधिक शक्ति नहीं लगानी पड़ती है और प्रकारान्तर से पूरे शरीर का व्यायाम हो जाता है। 
शरीर के वजन को घटाने के लिए भोजन में कैलोरी की मात्रा कम करनी पड़ेगी तथा भोजन में वसा की मात्रा २० ग्राम प्रतिदिन से अधिक नहीं होनी चाहिए। भोजन में नमक की मात्रा भी ६ ग्राम प्रतिदिन से अधिक नहीं होनी चाहिए। नमकीन,तले हुए पदार्थ का परित्याग करना होगा तथा भोजन में प्रोटीन की मात्रा भी कम कर देनी होगी। इस प्रकार पर्याप्त परहेज ,नियमित व्यायाम व योगासन से मधुमेह के कारण शरीर के अंगों पर होने वाले हानिकारक प्रभाव स्वतः कम हो जायेंगे। मधुमेह नियंत्रण हेतु उपरोक्त के साथ ही साथ औषधियों का प्रयोग भी लाभदायक होता है।      

Thursday, 5 May 2016

**गुरु नानक देव


xq# ukud tx ekfga iBk;ks


xq# ukud

 Mk0 jf'e'khy

dkfrZd ekl dh iwf.kZek dks cS’kk[k lqnh 3 laor 1526 foØeh ¼15 vizSy 1469½ esa iatkc izkar ds ryo.Mh jk;Hkhe uked xkao esa ,d vykSfdd iq#"k dk vorkj gqvk ftlds uke ls /kU; gksdj og LFkku ^uudkuk lkgc* ds uke ls izfl) gks x;kA ¼;g LFkku ikfdLrku ds ykgkSj ftys ls 30 ehy nwj nf{k.k&if’pe esa fLFkr gS½ dgk tkrk gS fd tc bl ckyd dk tUe gvk rks izlwfr x`g vykSfdd T;ksfr ls izdkf’kr gks x;kA f’k’kq ds eLrd ds vkl&ikl ,d rst vkHkk QSyh gqbZ Fkh vkSj psgjs ij vn~Hkqr 'kkafr FkhA firk ckck dkywpUnz csnh ,oa ekrk f=ikrk us vius iq= dk uke j[kk ^ukud nso*A dkywpanz csnh fdlku vkSj iVokjh FksA blds vfrfjDr os egktuh dk dk;Z Hkh djrs FksA tc xkao ds iqjksfgr iafMr gjn;ky us ukud ds vn~Hkqr xq.kksa dks lquk rks mUgsa fo’okl gks x;k fd blesa vo’; gh fdlh bZ’ojh; 'kfDr dk okl gS&
thrh ukS [kaM esnuh lfr uke nk pØ pyk;k]
Hk;k vkuan txr fcp dy rkj.k xq: ukud vk;kA
izÑfr ds gfjr izkax.k esa ,dkUr izseh ;g ckyd ckY;koLFkk ds piy&papy xq.kksa ds foijhr ekSu jgk djrk FkkA gjne fparu&euu esa yhu bUgsa [ksy&dwn fcYdqy Hkh jkl u vkrk FkkA
       firk us ukud dh f’k{kk ds fy, fgUnh] laLÑr] Qkjlh i<+kus ds fy, v/;kid fu;qDr fd;k ijarq fcMEcuk rks nsf[k, fd f’k{kd Lo;a f’k"; gks x,A firk us ukud dks ekSyoh dqrqcqíhu ds ikl i<+us ds fy, HkstkA ekSyoh lkgc Qkjlh ds igys gh vYQkt ¼o.kZ½ vfyQ+ dk gh vFkZ ugha fl[kk ik, Fks fd ukud us dgk] ^vYykg dks ;kn d:a xQyr eufg fclkjk* vkSj mUgksaua ekSyoh lkgc dks vyQ ds lkFk gh ^cs* dh lhQgha ds vFkZ lquk fn,A os ukud dh fo}rk ls vR;Ur izHkkfor gq,A ckn esa firk us bUgsa xksiky if.Mr dh ikB’kkyk esa i<+us ds fy, HkstkA ogka ukud pqipki cSBs vkdk’k fugkj jgs FksA xq: us iz’u fd;k] ^^rw i<+ D;ksa ugha jgk\** ukud us mŸkj fn;k] ^lPph i<+kbZ rks eSa gh i<+ jgk gwa] ckdh rks lc >wB i<+rs gSa*&
tfy eksg ?kfl efl dfj] efr dkxn djh lk#A
ekbZ dye dfj fprq] ys[kkfj xq: iqfN fy[kq chpkfj
fy[kquke lkykg fy[kq] fy[kq vuUr u ikjkokjA
¼vFkkZr~ eksg dks HkLe dj L;kgh] cqf) dk Js"B dkxt] izse dh dye] fpŸk dks ys[kd vkSj xq: ls iwN dj uke dh efgek rFkk iz’u dk vkfn vUr ugha] ;g fy[kks½
       vc uUgsa ckyd dh bl izdkj dh Kkuiw.kZ ok.kh ds vkxs xq# iznŸk ykSfdd Kku ckSuk gks gh tk,xkA Lo;a dks derj tkudj xq: us f’k"; dk f’k";Ro Lohdkj dj fy;kA bl izdkj ukud us xq: eq[k ls Ldwy f’k{kk rks ugha izkIr dh] ijarq Lok/;k; ls rFkk lRlax ls iatkch] fgUnh] laLÑr ,oa Qkjlh dk Kku izkIr dj fy;kA
       ukud th ds thou ls vusd fdaonfUr;ka tqM+h gqbZ gSa] tks bUgsa ykSfdd txr dk vykSfdd iq#"k fl) djrh gSaA dgrs gSa fd ,d ckj firk us bUgsa HkSal pjkus ds fy, taxy HkstkA taxy esa igqapdj os HkSalksa dh fpUrk NksM+dj vka[ks can dj fpUru esa Mwc x,A HkSalss ikl ds [ksr esa ?kql xb± vkSj lkjk [ksr pj xb±A [ksr ds ekfyd us ukud ls tkdj f’kdk;r dhA ukud us mldh ckrksa ij /;ku ugha fn;k] rc og tehankj jk; cqykj ds ikl x;kA tehankj us ukud ls iwNk rks mUgksaus mŸkj fn;k] ^mlds gh [ksr gSa] mlds gh tkuoj gSa vkSj mlus gh pjok;k gSA mlus ,d ckj Qly mxkbZ gS] rks gt+kj ckj mxk ldrk gSA mlds jgrs fdlh dk uqdlku ugha gks ldrkA* ukud dh ckr lqudj os yksx [ksr ij igqaps] rks nax jg x,A [ksr igys dh rjg gjs&Hkjs FksA Qly dk dqN uqdlku u gqvk FkkA ,sls gh ,d dFkk vkSj gS] ^,d ckj HkSal pjkrs le; ukud /;kueXu gks x, rks os [kqys vkleku ds uhps gh ysV x,A flj ds Åij lwjt ri jgk FkkA ftldh rst jks’kuh ukud ds psgjs ij iM+ jgh FkhA rHkh vpkud ,d lkai vk;k vkSj ckyd ukud ds psgjs ij Qu QSykdj [kM+k gks x;kA tehankj jk; cqykj ogka ls xqtjsA bl vn~Hkqr n`’; dks ns[kdj muds vk’p;Z dk fBdkuk u jgkA mUgksaus eu gh eu ukud dks iz.kke fd;kA dkykUrj esa bl ?kVuk ds Le`frLo:Ik ml LFkku ij ^xq#}kjk ekyth lkfgc* dk fuekZ.k fd;k x;kA ;s yksd dFkk,a lR;rk dh dlkSVh ij pkgs u ij[kh tk lds] ijarq ukud th vke tu ls vyx fof’k"V O;fDrRo ds Lokeh Fks] ;g ckr vo’; fl) djrh gSaA
       ;g og le; Fkk] tc lekt va/k&fo’okl] :f<+;ksa] ijaijkvksa] feF;k izn’kZu ,oa /kkfeZd dV~Vjrk esa tdM+k gqvk FkkA rc ukud gh Fks] ftUgksaus leLr :f<+oknh ijaijkvksa ls lekt dks eqDr djus dk iz;kl fd;kA viuh Hkkoukvksa dks Li"V djrs gq, fgUnqvksa ds izfr os dgrs gSa] ^^fgUnqvksa esa ls dksbZ Hkh osn&’kkL=kfn dks ugha ekurk] vfirq] viuh gh cM+kbZ esa yxk jgrk gSA muds dku o ân; lnk rqdksZa dh /kkfeZd f’k{kkvksa ls Hkjrs tk jgs gSa vkSj eqlyeku deZpkfj;ksa ds fudV ,d nwljs dh fuUnk djds yksx lcdks d"V igqapk jgs gSaA os le>rs gSa] ^jlksbZ ds fy, pkSdk yxk nsus ls ge ifo= gks tk,axsA* blh rjg os eqfLye 'kkLkdksa ds fy, dj mxkgus okys fgUnw deZpkfj;ksa dks bafxr djrs gq, dgrs gSa] ^xkS rFkk czkã.kksa ij dj yxkrs gks vkSj /kksrh] Vhdk ,oa ekyk tSlh oLrq,a /kkj.k fd, jgrs gksA vjs] HkkbZ] rqe vius ?kj ij rks iwtk&ikB fd;k djrs gks vkSj ckgj dqjku ds gokys ns&nsdj rqdks± ds lkFk laca/k cuk, jgrs gksA vjs] ;s ik[kaM NksM+ D;ksa ugha nsrs\** bu ifDr;ksa esa fganqvksa dh vkykspuk ds lkFk gh muds izfr nnZ o lgkuqHkwfr dh Hkkouk Hkh izdV gksrh gSA
       Tkc ukud dk ;Kksiohr laLdkj gksus tk jgk Fkk rc mUgksaus iqjksfgrksa ls bl laLdkj ds fo"k; esa tkuuk pkgkA iqjksfgrksa us dgk ^^bl laLdkj ls ckyd dks f}t vFkkZr nwljk tUe feyrk gSA**
ukud us dgk] ^^lwr Mkyus ls esjk nwljk tUe gks tk,xk vkSj eSa u;k gks tkÅaxkA ;g rks Bhd gS] fdarq vxj tusÅ VwV x;k rks\**
       ^^rks cktkj ls nwljk [kjhn ysukA** iqjksfgr us mŸkj fn;kA
bl ij ukud us dgk] ^^rc fQj bls jgus nhft,A tks [kqn VwV tkrk gS] tks cktkj esa nks iSls esa fey tkrk gS] mlls ijekRek dh [kkst D;k gksxh! Ekq>s ,sls tusÅ dh vko’;drk gS] ftlesa n;k dh dikl gks] larks"k dk lwr gks] la;e dh xkaB gks] lR; dh iwju gksA ;gh thao ds fy, vk/;kfRed tusÅ gS tks u VwVrk gS] u eSyk gksrk gS] u [kksrk gSA**
       Ukkud th lnk gh bZ’k HkfDr esa yhu jgrs FksA ?kj&ckj] [ksrh ckjh dh dksbZ fQØ ughaA firk us bUgsa Ñf"k deZ esa yxkuk pkgk rks tokc fn;k] ^^og flQZ lPph [ksrh&ckjh gh djsaxs] ftlesa eu dks gyokgk] 'kqHk deks± dks Ñf"k] Je dks ikuh rFkk ’kjhj dks [ksr cukdj uke dks cht rFkk larks"k dks viuk HkkX; cukuk pkfg,A uezrk dks gh j{kd ckM+ cukus ij Hkkoiw.kZ dk;Z djus ls tks cht tesxk] mlls gh ?kj ckj lEié gksxkA**
       Ikq= ds bl fojfDr Hkko dks ns[kdj firk us xq#nkliqj ds ewypUnj dh dU;k lqy{k.kh ls 18 o"kZ dh vk;q esa lEor 1544 dh 24oha tsB dks fookg dj fn;kA bl fookg ls JhpUnz ,oa y{eh pUnz uke ds nks iq=ksa dh Hkh izkfIr gqbZ] exj x`gLFkh dk cks> Hkh muds eu dh QDdM+rk dks nck u ik;kA lkalkfjd vuklfDr ds vkxs iq= eksg dqN Hkh ugha! firk us ukud dks O;olk; esa yxk;k ysfdu dksbZ Hkh vkd"kZ.k bUgsa cka/k u ik;kA ,d ckj firk us bUgsa O;olk; ds fy, chl #i, fn,] ysfdu ukud us ml /ku dks lk/kq&lUrksa dh lsok esa [kpZ dj fn;k vkSj ?kj vkdj dg fn;k] ^^eSa lPpk lkSnk djds vk jgk gwaA**
       gkjdj firk us ukud dks vius nkekn nhoku t;jke ds ?kj lqYkrkuiqj Hkst fn;k tgka bUgsa uokc nkSyr[kku yks/kh ds eksnh[k+kuk esa ukSdjh fey xbZA ogka ij vkVk rkSyrs le; fxurh djrs&djrs rsjg dh la[;k vkbZ rks rsjk&rsjk gh dgrs jg x, vkSj lkjk vkVk rkSy fn;kA ckn esa ogka ls gVkdj Hk.Mkjh cuk, x,A dqN eqlyekuksa us buds f[kykQ "kM+;a= dj bUgsa tsy fHktok fn;k fdarq tkap ds le; [kkrk&cgh dk fglkc dkSM+h&ikbZ ls lgh fudyk rks fQj tsy ls NwVsA blds Ik’pkr mUgksaus ukSdjh NksM+ nh vkSj ns’kkVu djus yxsA tSls&tSls mu ij lkalkfjd f’kdatk dlus dh dksf’k’k dh xbZ mudk lalkj ds izfr fojfDr Hkko c<+rk gh x;kA budks okil ryo.Mh ykus ds fy, ukud ds ije fe= ^ejnkuk* dks Hkstk x;k ijarq ogka igqapdj ukud dks okil ykuk rks nwj] og Lo;a Hkh cSjkxh cudj muds lkFk ?kweus yxkA lS;niqj] dq#{ks=] gfj}kj ?kwe dj iqu% lqyrkuiqj igqaps vkSj ?kwers&?kkers csbZ unh ds fudV ,d xqQk esa lekf/k ys yhA bl lekf/k esa ukud dks vykSfdd vuqHko vkSj vkuUn izkIr gqvkA mUgas eu vkSj efLr"d esa vugn ukn dh xawt lqukbZ nh& 
vugnks vugnq cktS] :.k>q.k dkjs jke
Eksjk euks esjk euqjkrk] yky fi;kjs jke
Ukkud ukfHk jrs oSjkxh] vugn :.k&>q.k dkjsA
¼’kwU; eaMy esa esjk eu Mwck gqvk gS] tks oSjkxh uke esa Mwc tkrk gS] mls :.k&>q.k dk vkRelaxhr lqukbZ nsrk gSA½
       Rku ds ;ksxh eu ds jktk ukud fdlh Hkh O;fDr dks iy Hkj esa cny nsa& ,slh vn~Hkqr 'kfDr ds Lokeh FksA dHkh cM+Iiu ugha gkadk] dHkh Lo;a dks lkfcr djus dh dksf’k’k ugha dhA ukud th dh tks lcls cM+h ckr ;gh Fkh fd mUgksaus dHkh fdlh dks NksVk ugha cuk;k] cfYd [kqn dks mlls cM+k lkfcr fd;kA ,d ydhj dks feVkdj NksVk cuk nsuk rks ljy gS] fdUrq ml ydhj ls cM+h ydhj [khapdj igyh ydhj dks NksVk cukuk fdruksa dks vkrk gSA ukud ,sls gh fojys iq#"k FksA eqyrku ds ihj us ukud dh yksdfiz;rk ls ukjkt gksdj vius ,d eqjhn ds gkFk ,d nw/k dk I;kyk ukud nso ds ikl Hkstk] ftldk Hkko Fkk fd eqyrku ls ckgj fudy tkvks] ;gka rqEgkjh nky ugha xysxhA ukud us ml nw/k ds dVksjs esa pesyh dk Qwy HkstkA ftls ikdj ihj nkSM+s&nkSM+s vk, vkSj ukud ls {kek ekaxhA ukud us dgk] ^^,d E;ku esa nks ryokj Hkys gh u lek ldsa] ijarq ,d dqfV;k esa nks Qdhj vo’; gh lek ldrs gSaA** e`nqrk] ljyrk] fou;’khyrk vkfn ekuoh; xq.k ftlesa dwV&dwV dj Hkjs gks] /kkfeZd vkSj tkrh; ladh.kZrk ftlesa fdafpr ek= Hkh u gks] u dksbZ ghu Hkkouk] u vga Hkkouk] fu’Ny eu vkSj R;kx&Hkkouk ls ;qDr gks vkSj tks vksadkj dh O;kidrk dks Lohdkjus okys vkSj mlh dh efgek dk izpkj&izlkj djus okys ml ukud dh nk’kZfudrk vuks[kh gSA bUgsa flD[k /keZ dk izorZd dgk tkrk gS] exj mUgksaus Lo;a fdlh ,slh /kkj.kk dks izpkfjr ugha fd;kA mUgksaus rks dsoy ekuork dk lans’k fn;kA muds rks fl)kUr gSa& ,ds’ojokn] fgUnw&eqlyekuksa esa vfHkérk vkSj ewfrZ iwtk dk fojks/kA muds vuqlkj ijekRek ds vkdkj&izdkj vkSj Lo:Ik dks fuf’pr ugha fd;k tk ldrk] og loZO;kih gS] vuUr v[k.M] vHksn] vPNsn~; vkSj vukfn gSA unh] igkM+] vkdk’k] ikrky] iou] vfXu] lw;Z] pUn]z tM+] psru tks dqN Hkh bl czkã.M esa fo|eku gS] lc vksadkj esa O;kIr gSA ^vksdkj iwtk v#eku A vksadkj ti la;e KkuA*
       Rkks fQj cl vksadkj ds ijekRerRo dh vo/kkj.kk dks dk;e j[kus ds fy, uke Lej.k djuk O;fDr dk ije dŸkZO; gSA ;gh lruke ea= gSA ,d ckj lruke jl ih ysus ij fo’o ds lHkh jl Qhds yxrs gSaA
                           voj Lokn Lo;a Qhds ykxs lc lpuke nq%[k fn;kA
dg ukud lks [kjk Loknh ,d vksadkj jl ih;kAA
       ;g uke loZlqyHk gSA bl uke ds fy, nqfu;k esa pIis&pIis dh [kkd Nkuuk t:jh ugha gS] og rks 'kjhj esa gh fo|eku gSA blds fy, mUgksaus 'kju] Kku] deZ vkSj lp] bu pkj lksikuksa dks ikj djds czã izkfIr dk ekxZ cryk;kA fo}kuksa dk er gS fd ;g pkj lksiku lwfQ;ksa ds pkj eqdkekr ¼’kjhvr] ekjQr] mdck vkSj ykgwr½ ls fudys gSaA blds Hkh izek.k feyrs gSa fd xq#ukud vkSj 'ks[k Qjhn ds chp xk<+h eS=h FkhA
       fnudj th fy[krs gSa] ^^xq: ukud dh os’k&Hkw"kk vkSj jgu&lgu lwfQ;ksa tSlk Fkk] vr,o cgqr ls vokZphu fo}ku ;g vuqeku yxkrs gSa fd xq: ukud ij eqfLye izHkko vf/kd FkkA vr% mudk /keZ bLyke dk gh Lora= vk[;ku jgk gksxkA bl vuqeku ds leFkZu esa ;g Hkh dgk tkrk gS fd xq: ukud ds f’k"; dsoy fgUnw gh ugha] cgqr ls eqlyeku Hkh FksA bl izlax esa] ;fn flD[k /keZ xzaFkksa dk izek.k [kkstk tk, rks ^jgrukek* esa xq: dh Li"V vkKk feyrh gS fd [kkylk /keZ ¼’kq) /keZ½ fgUnw vkSj eqfLye nksuksa /keksZa ls vyx gSA xq: dh bl vkKk dks lgh ekuuk pkfg,] D;ksafd xq: ukud ;fn fgUnqRo ;k bLyke ls iw.kZ :Ik ls lUrq"V gksrs rks mUgsa ,d uohu iUFk fudkyus dh fpUrk gh ugha gksrhA**
       ukud us vius vuq;kf;;ksa dks thou ds nl fl)kar fn, vkSj dgk] ^^bZ’oj ,d gS] lnSo ,d gh bZ’oj dh mikluk djks( txr dk dŸkkZ lc txg vkSj lc izkf.k;ksa esa O;kIr gS( loZ’kfDreku bZ’oj dh vjk/kuk ls fdlh izdkj dk Hk; eu esa ugha jgrk( bZekunkjh ls esgur dj jksth&jksVh dekuh pkfg,( cqjk dk;Z djus ds fo"k; esa ugha lkspuk pkfg,( fdlh dks lrkuk ugha pkfg,( ges’kk izléfpŸk jguk pkfg,( ijekRek ls vius fy, {kek’khyrk ekaxuk pkfg,( viuh dekbZ dk dqN Hkkx t:jrean dks Hkh nsuk pkfg,( lHkh L=h&iq#"k cjkcj gSa( Hkkstu 'kjhj dks thfor j[kus ds fy, djuk pkfg,( yksHk] ykyp o laxzg ugha djuk pkfg,A
       ukud ds fl)kar osnkUr ds fl)karksa ls ifjiw.kZ FksA os deZ dks ekurs gSa] iqutZUe dks ekurs gSa] fuokZ.k vkSj ek;k dks ekurs gSa czãk] fo".kq vkSj egs’k ds f=&nsoRo esa fo’okl djrs gSA mudk xq#&ijaijkvksa esa tks fo’okl gS] og lwQh er ls [kwc iq"V gqvk nh[krk gSA bLyke dh ekSfyd f’k{kk ds foijhr vkSj lwQh er dh lk/kuk ds vuqlkj] os oSjkX; esa Hkh vkLFkk j[krs gSaA blds flok uke ti] /;ku] lekf/k vkSj jkt;ksx dk Hkh muds ;gka cgqr egŸo gSA lc feykdj xq: ukud }kjk izofrZr iaFk ljy] lqdqekj] tufiz; ,oa fou;iw.kZ iaFk FkkA
       ukud nso us x`gLFkksa dks lqlaLÑr djus] ifjJe lk/; thou;kiu djrs gq, thoksa ij n;k] ijksidkj lgk;rk ,oa tkfr laiznk; dh ladh.kZ lhekvksa dks R;kx dj vk/;kRe rRo dks ;FkkFkZ :Ik esa Lohdkj djus dh lPph f’k{kk nhA os Li"V dgrs Fks& ^czkã.k ogh gS] tks czg~e dks tkurk gSA ,d gh czãk ls lcdh mRifŸk gqbZ gS] ;g lalkj feV~Vh ls jps x, ik= dh Hkkafr gSA* mUgksaus foosdkuan dh rjg Hkze.k djrs gq, vius fopkjksa dks txg&txg QSyk;kA os vius pkj lkfFk;ksa ejnkuk] yguk] ckyk vkSj jkenkl dks ysdj rhFkkZVu ds fy, fudy iM+sA pyrs le; eka us iwNk] ^rhFkZ;k=k ls rqEgsa D;k gkfly gksxk\** mUgksaus tokc fn;k ^dqN Hkh ugha] gesa vius 'kjhj dks gh eafnj cukuk gksxk] vius efLr"d dks ek;k ds ca/ku ls eqDr djuk gksxk] cqjkb;ksa ls eqfDr ikuh gksxh vkSj gekjk l`tu djus okys izHkq dk Lej.k djuk gksxkA** ysfdu lR; dk lans’k QSykus ds fy, ukud th us rhu n’kdksa esa] fdlh Hkh Hkkjrh; ls lokZf/kd 28 gtkj fdyksehVj ls Hkh vf/kd nwjh r; dhA os tgka Hkh x,] viuk izHkko NksM+rs pysA muds ;k=kvksa ls tqM+h vusd dgkfu;ka ^tue lk[kh* esa ladfyr gSaA dsoy blh tUe ds ugha] cfYd fiNys tUe ls tqM+s Hkh dbZ fdLls tkrd dFkkvksa dh rjg ladfyr gSA ^tue lk[kh* esa ukud ds tUe ysus ds laca/k esa fy[kk gS] ^,d ckj jktk tud /keZjkt ds lkFk ujd esa x, vkSj ogka vius lg;ksfx;ksa dh cqjh n’kk ns[kh rks fopfyr gks mBsA rc jktk tud dks crk;k x;k fd bu vkRekvksa dks viuh eqfDr ds fy, nksckjk i`Foh ij tkuk gksxkA mu vkRekvksa ds 'kqf)dj.k vkSj eqfDr ds fy, gh jktk tud ukud ds :Ik esa nksckjk tUe ysdj vorfjr gq,A*
       bu /kkfeZd ;k=kvksa dks iatkch esa ^mnkfl;ka* dgk tkrk gSA viuh ikap mnkfl;ksa esa ukud th us yxHkx 60 LFkkuksa dk Hkze.k fd;kA igyh mnklh esa mŸkjh&iwohZ Hkkjr dk Hkze.k fd;k] nwljh esa nf{k.k Hkkjr ,oa Jhyadk dk] rhljh mnklh esa ysg {ks= dk Hkze.k fd;kA pkSFkh mnklh esa mUgksaus eqlyekuh ifj/kku /kkj.k dj eDdk] enhuk] ;s:’kye] nfe’d] vysIik] iflZ;k] rqdhZ] dkcqy] is’kkoj ,oa cxnkn dh ;k=k dhA cxnkn ds ,d vjch i= ^nk:Lyke* ¼9 vizSy 1919 ds vad½ esa izdkf’kr ,d [kcj ls muds cxnkn Hkze.k dk izek.k feyrk gSA ^Hkkjrh; osnkUr vkSj bZjkuh rlOoqQ ds feyus ls Hkkjro"kZ esa tks /kkfeZd tkx`fr mRiUu gqbZ] dchj dh rjg ukud Hkh mlh tkx`fr ds iq"Ik FksA ns’k&fons’k esa ?kwedj mUgksaus vius le; ds cM+s&cM+s ;ksfx;ksa vkSj lk/kdksa dh laxfr dh FkhA cxnkn esa mudk [kwc Lokxr&lRdkj gqvk FkkA cxnkn esa mudh ;kn esa ,d eafnj Hkh gS] ftl ij rqdhZ Hkk"kk esa f’kykys[k ekStwn gSA xq: ukud ds lS;n oa’kh psyksaa ds mŸkjkf/kdkjh vHkh rd ml eafnj dh j{kk djrs gSaA**
       ukud th dh vkf[kjh ;k=k ¼mnklh½ 1530 esa [kRe gqbZA bl mnklh esa mUgksaus fnYyh] gfj}kj tSls mŸkj Hkkjr ds dbZ LFkkuksa dk Hkze.k fd;kA bu ;k=kvksa ds }kjk mUgksaus lR; dk O;kid lans’k fn;kA os ftl txg x,] viuh ;k=k esa mlh LFkku ds jax esa jaxs gq, ut+j vkrsA mUgksaus vius vuq;kf;;ksa dks rhu mins’k fn,& fdjr djuk ¼bZekunkjh ls dekbZ djuk½] uke tiuk ¼Hkxoku dh izkFkZuk djuk½ vkSj oaM pduk ¼bZekunkjh ls dek;k x;k /ku t:jreanksa ds lkFk lk>k djuk½A
       ukud nso losZ’ojoknh FksA :f<+;ksa vkSj dqlaLdkjksa ds izfr lnk rh[ks izgkj djrs jgsA mUgksaus rRdkyhu jktuhfrd /kkfeZd ,oa lkekftd ifjfLFkfr;ksa ij viuh lE;d n`f"V MkyhA mUgksaus ukjh ds izfr mnkj n`f"Vdks.k j[kkA tkr&ikr] ewfrZ iwtk] ds lkFk lrh&izFkk] 'kjkc vkSj rEckdw lsou dk Hkh fojks/k fd;kA mud /keZ esa inkZ&izFkk dks Hkh cqjk ekuk x;kA muds ckn gksus okys xq#vksa us muds mins’kksa dk iw.kZr% ikyu fd;kA dgk tkrk gS fd bl /keZ ds rhljs xq: vej nkl ls ,d jkuh feyus vkbZ] fdarq og insZ esa Fkh] blfy, xq: us muls feyus dks euk dj fn;kA muds mins’kksa dk izHkko fgUnw o eqfLye lekt ij leku :Ik ls iM+rk FkkA muds O;kid izHkko ls Hk;Hkhr gksdj dqN yksxksa us budh f’kdk;r rRdkyhu bczkghe yksnh ls dj nh] QyLo:Ik os cgqr fnuksa rd cUnh jgsA vUrr% ikuhir dh yM+kbZ esa tc bczkghe ijkftr gks x;k vkSj ckcj ds gkFk esa lŸkk vkbZ rc bUgsa dSn ls eqfDr feyhA
flD[k /keZ esa ^okg xq:* dk tks /kkfeZd ukjk izpfyr gS] mldks Mksjksih QhYM O;k[;kf;r djrs gq, dgrs gS fd ^ok* vFkkZr oklqnso( ^g* ls gfj( ^x^ dk xksfoUn vkSj ^:* ls jke dh vksj ladsr fd;k x;k gSA
xq: ukud nso dk izHkko dsoy lTtuksa ij gh ugha iM+kA bZlk dh rjg muds izHkko esa vkdj Mkdqvksa rd dk eu] Ik’pkrki dj vius nq"deks± dks NksM+ lnkpkj dh vksj izo`Ÿk gks x;kA eqyrku dk Mkdw lTtu ;kf=;ksa dks ywVk djrk FkkA xq: ukud ls mldh HksaV gksus ij mUgksaus 'kkar Hkko ls dgk&
mtyw dgk fpyd.kk ?kksfVe eyrh elqA
/kksfr;ka twfB u mrjs rs lkS /kksok frlqAA
¼vFkkZr gs lTtu] dqdeks± dh L;kgh ls rsjh pknj ij ,sls dkys /kCcs iM+s gSa] tks lkS ckj /kksus ij Hkh ugha NwVsaxsA½ ukud dh ;g ok.kh lqurs gh Mkdw lTtu dk eu cny x;k vkSj og vius ywVekj ds nq"deks± dks NksM+dj ukudnso dk f’k"; gks x;kA blh izdkj ^vYykg dk lPpk cank*] ^ekgh HkDr dk p’ek*] ^'ksj vk;k*] ^ykyks ikjl ds lkFk tks lksuk cu x;k*] ^uekt tks ukud us i<+h*] ^’ks[k bczkghe dk Hkze*] ^tksxh rsjh isVh dgka*] ^dlh vkjrh gksbZ* vkfn vusd laLej.k gSa] tks ukud ds vykSfdd thou&o`Ÿk ij izdk’k Mkyrs gSaA
       fl[k /keZ ds izorZd] mins’kd] lekt lq/kkjd gksus ds lkFk gh lkFk ukud nso ,d Hkkoqd dfo Hkh FksA mUgksaus dksedkUr inkoyh esa izÑfr ls ,dkRe gksdj tks vfHkO;fDr nh] og vn~Hkqr gSA mudh Hkk"kk dchj ds leku gh ^cgrk uhj* Fkh ftlesa Qkjlh] iatkch] fla/kh] [kM+h cksyh] vjch] laLÑr ,oa cztHkk"kk ds ’kCn lekfgr gSaA
       thou ds vafre le; esa ukud dh [;kfr cgqr vf/kd c<+ xbZ FkhA thou Hkj /kkfeZd ;k=k,a djus ds Ik’pkr jkoh unh ds rV ij fLFkr vius QkeZ ij mUgksaus viuk Msjk tek;kA bl le; rd buds Lo;a ds fopkjksa esa Hkh dkQh ifjorZu gqvkA ;s Lo;a fojDr gksdj] nku&iq.; ,oa HkaMkjk djrs gq, le; O;;rhr djus yxsA mUgksaus ^dŸkkZjiqj* ¼vc ikfdLrku esa½ uked ,d uxj clk;k vkSj ,d /keZ’kkyk Hkh cuokbZA blh LFkku ij vf’ou Ñ".k 10] laor~ 1997 ¼22 flracj 1539½ dks budk nsgkolku gks x;kA e`R;q ls iwoZ mUgksaus vius f’k"; yguk dks viuk mŸkjkf/kdkjh cuk;kA ;gh yguk vkxs pydj xq: vaxn nso ds uke ls izfl) gq,] ;|fi ukud ds iq=ksa us yguk ds mŸkjkf/kdkjh cuk, tkus dk fojks/k fd;k FkkA
       xq: ukud ds Ik’pkr ukS f’k"; xq: ijaijk esa izpkjd ,oa iwT; gq,A muds uke Øe’k% vaxn] vejnkl] jkenkl] vtqZunso] gjxksfoUn] gjjk;] gjÑ".k jk;] rsxcgknqj vkSj xksfoUn flag gSaA izR;sd xq: thou ds vafre le; esa vius mŸkjkf/kdkjh dks viuk in lkSaidj mls iUFk dk xq: ?kksf"ksr dj fn;k djrs FkkA ijarq xksfoUn flag us vafre le; esa ;g ?kks"k.kk dh fd ^vc ls dksbZ O;fDr xq: ugha gksxkA* mUgksaus fl[k /keZ ds ekSfyd fl)karksa lesr xq: ukud dh ok.kh dk laxzg ifo= xazFk ^xq: xzUFk lkgc* dks gh xq: ds :Ik esa izfrf"Br dj fn;kA^xq: xzUFk lkgc* esa ukud nso dh ok.kh] mins’k] egy] lyksd vFkkZr lk[kh] tiqth] mlknhokj] jfgjklk vkSj lksfgyk uke ls laxzfgr gSA xq: ukud nso ds opuksa dks loZizFke xq: vaxn us ^xq:eq[kh* fyfi esa fy[kkA rHkh ls ;g fyfi izpfyr gqbZA
       xq: ukud nso Lo;a dks u rks fgUnw ekurs Fks vkSj u eqlyekuA ftls os flD[k dgrs Fks og mudh n`f"V esa lq/kjk gqvk fgUnw vkSj lq/kjk gqvk eqlyeku nksuksa gks ldrs FksA ukud dk er Fkk fd euq"; dks lnk lk/kukyhu jguk vkSj ijekRek dk fpUru djuk pkfg,A blh ls lk/kd iw.kZrk dh vksj vxzlj gksrk gSA Lej.k jgs euq"; dHkh Hkh iw.kZ ugha gSA og vkthou lh[krk jgrk gSA ;gh bZ’oj izkfIr dh lh[k gSA bu fopkjksa dks /kkj.k djus okyk f’k"; gh oLrqr% ^fl[k* gSA mUgksaus fxjrs gq, ekuo ek= dks tks voyEcu fn;k] tks lân;rk iznku dh og vewY; gS& ^lquh iqdkj nkrkj iqdkj] xq: ukud tx ekfg iBk;ksA*
muds vuq;kf;;ksa esa fgUnw vkSj eqlyeku nksuksa gh 'kkfey FksA dgk tkrk gS fd tc ukud nso dk nsgkolku gqvk rc mudh yk’k dks tykus o nQukus ds fy, fgUnw vkSj eqlyekuksa esa mlh izdkj ls >xM+k gks x;k] ftl izdkj dchj ds ikfFkZo ds fy, gqvk FkkA ijarq dkykarj esa ’kkldksa dh /kekZU/krk ds dkj.k flD[k vkSj eqfLyeksa esa cSj gks x;kA bruk gh ugha] vkxs pydj fgUnqvksa us Hkh flD[k /keZ ls nwjh cuk yhA bl lanHkZ esa jke/kkjh flag fnudj dk dFku gS] ^^flD[k&er fgUnw /keZ ds /kM+ ls ohj&ckag dh rjg fudyk FkkA ;g Hkqtk fgUnqRo dh j{kk dh Hkqtk FkhA flD[kksa us tks vifjfer cfynku fd,] mudk lqQy lcls vf/kd fgUnqRo dks izkIr gqvkA fQj Hkh] vkt fgUnw vkSj flD[k ijLij yM+rs gSa] D;ksafd mudh fyfi;ka nks gSaA bls cqf) dk fnokyk ugha rks vksj D;k dgk tk,!